स्कूली शिक्षा में पिछड़े राज्यों के लिए ‘नई नीति’

जिन राज्यों में स्कूली शिक्षा का प्रदर्शन बेहद ख़राब है उनके लिए नई शिक्षा-नीति जल्दी ही लागू होने जा रही है. नीति आयोग और मानव संसाधन विकास मंत्रालय साथ मिलकर इस मुहिम पर काम करेंगे. ज्ञात हो कि एक रिपोर्ट के माध्यम से इस बात का खुलासा हुआ था कि अधिकांश राज्यों में बच्चों के पिछड़ने की मुख्य वजह बच्चों में लर्निंग पावर का कम होना है. इसके साथ ही जिन राज्यों का प्रदर्शन ख़राब है, वहां पढ़ाई के बदले मिड-डे मील से लेकर मुफ्त में ड्रेस, किताबें आदि ज्यादा जोर दिया जाता है. इन राज्यों में जम्मू- कश्मीर, पंजाब, बिहार, झारखंड और मध्य प्रदेश आदि का नाम प्रमुख है.

Source: jagran
Featured Image: wsj