भारत के टॉप 7 बोर्डिंग स्कूल

भारत में स्कूली शिक्षा हमेशा से ही बाकी चीजों से ऊपर रही है. स्कूली शिक्षा बच्चों के समग्र विकास पर केंद्रित होती है. इसकी शुरुआत पाठ्यक्रम में उल्लिखित सभी विषयों को सीखने से शुरू होता है, फिर रुचि के विषयों में स्नातक तक जाता है.
चूंकि भारत में शुरू से ही गुरुकुल की परंपरा रही है और आधुनिक समय में आप इसे ‘बोर्डिंग स्कूल’ के रूप में देख सकते हैं.

ऐसे में हम आपको ऐसे ही स्कूलों की लिस्ट बताएँगे जिन्हें भारत के ‘टॉप बोर्डिंग स्कूल’ का दर्जा प्राप्त है.

1. लॉरेंस स्कूल, सनावर (The Lawrence School, Sanawar)

1847 में स्थापित यह स्कूल एशिया का सबसे पुराना को-एजुकेशन स्कूल है. यह स्कूल हिमाचल प्रदेश के सोलन जिले में स्थित है. यहाँ बड़े- बड़े सेना के अधिकारी और उनके बच्चे पढ़ते हैं. CBSE एफिलिएटेड इस स्कूल से उमर अब्दुल्लाह, मेनका गाँधी , प्रीति जिंटा जैसी सेलिब्रिटीज ने शिक्षा ग्रहण किया है.

2. लॉरेंस स्कूल, लॉडेल, ऊटी (Lawrence School, Lovedale, Ooty)

ऊटी का लॉरेंस स्कूल भी एक सह-शिक्षा देने वाला स्कूल है, जिसे 1858 में स्थापित किया गया था. यह सीबीएसई एफिलिएटेड स्कूल अपनी शिक्षाओं के लिए अच्छी तरह से जाना जाता है. इस स्कूल ने अपनी शिक्षा व्यवस्था में परिवर्तनकारी तकनीक को अपनाया है और डिजिटल साक्षरता पर अपना ध्यान तेजी से केंद्रित किया है. यहाँ छात्रों को ऑनलाइन टूल और अनुसंधान सीखने और उपयोग करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है.

3. सह्याद्री स्कूल, पुणे (Sahyadri School, Pune)

1995 में स्थापित यह को-एड. स्कूल ICSE / ISC से संबद्धता रखता है. लगभग 50 एकड़ में इसका परिसर फैला हुआ है. यह स्कूल कृष्णमूर्ति फाउंडेशन इंडिया (KFI) द्वारा प्रबंधित किया जाता है. सह्यादरी स्कूल दार्शनिक जिद्दू कृष्णमूर्ति की शिक्षाओं से प्रेरित है. नियमित पाठ्यक्रम के साथ यह स्कूल ओरिगामी, संगीत, नृत्य, नाटक आदि के लिए विशेष कोचिंग प्रदान करता है.

Pic: quora

4.शेरवुड कॉलेज, नैनीताल (Sherwood College, Nainital)

शेरवुड कॉलेज की स्थापना अंग्रेजों द्वारा वर्ष 1869 में की गई थी. यह भारत के सबसे पुराने को -एड बोर्डिंग स्कूलों में से है. इस स्कूल का नाम रॉबिन हुड और उनके शेरवुड फोरेस्टर के नाम पर रखा गया है. बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन ने यहां से शिक्षा ली है. यह स्कूल इस बात पर जोर देता है कि छात्रों को खेल और सांस्कृतिक गतिविधियों में भाग लेना चाहिए.

5. न्यू एरा हाई स्कूल, पंचगनी (New Era High School, Panchgani)

पंचगनी में न्यू एरा हाई स्कूल एक निजी रूप से प्रबंधित को -एड इंटरनेशनल स्कूल है. इसकी स्थापना वर्ष 1945 में हुई थी. छात्रों की बदलती जरूरतों के अनुरूप इस स्कूल ने समय-समय पर अपने आप को अपग्रेड किया है. यहाँ शीर्ष शिक्षा के साथ-साथ, जिम्नेजियम और सभागार जैसी प्रशिक्षण सुविधाएं, एक खुला एयर एम्फीथिएटर और एक काफी बड़ा खेल का मैदान न्यू एरा हाई स्कूल को दूसरों से अलग खड़ा करता है.

6. ऋषि वैली स्कूल, चित्तूर (Rishi Valley School, Chittoor)

ऋषि वैली स्कूल, चित्तूर की स्थापना 1926 में प्रसिद्ध दार्शनिक जिद्दू कृष्णमूर्ति ने की थी. भारत में सर्वश्रेष्ठ बोर्डिंग स्कूल के रूप में संदर्भित इस को -एड स्कूल में एक इनोवेटिव पाठ्यक्रम है. यहाँ कक्षा 8 तक छात्रों के लिए कोई परीक्षा आयोजित नहीं है. यहाँ पक्षीविज्ञान के लिए एक संस्थान भी बनाया गया है, जो इसे अद्वितीय बनाता है.

Pic: justdial

7. सिंधिया कन्या विद्यालय, ग्वालियर (Scindia Kanya Vidyalaya, Gwalior)

सिंधिया कन्या विद्यालय, ग्वालियर एक एकमात्र गर्ल्स स्कूल है जिसकी स्थापना 1956 में ग्वालियर के स्वर्गीय राजमाता ‘श्रीमंतविजय राजे सिंधिया’ ने की थी. यह स्कूल राउंड स्क्वायर कॉन्फ्रेंस का एक सदस्य है. यह स्कूल अपने छात्रों के लिए नियमित रूप से शैक्षिक विदेश यात्राओं का आयोजन करता है. वहीं लंदन के सफोल्क में वुडब्रिज स्कूल के साथ स्टूडेंट एक्सचेंज कार्यक्रम भी आयोजित करता है. शाही परंपरा में निहित होने के बावजूद, यह स्कूल आधुनिक और नवीन शिक्षाओं को प्रदान करता है.

Source Link: yesbank
Featured Image Link: globaleducates